जपानची लोक १०० वर्षा पेक्षा जास्त स जीवन का जगतात ? वाचा सविस्तर - ONLINE MARATHI
Home / HEALTH / जपानची लोक १०० वर्षा पेक्षा जास्त स जीवन का जगतात ? वाचा सविस्तर

जपानची लोक १०० वर्षा पेक्षा जास्त स जीवन का जगतात ? वाचा सविस्तर

आपण खुप वेळे वाचले असतील  जपानचे लोक सर्वात जास्त  आयुष्य जगतात . परतू त्याम्गील कारण तर  तुम्हाला माहित  नसेल  तर

तुम्ही  खालील माहिती पूर्ण वाचा

 

हम अक्‍सर सुनते हैं कि जापानियों की जिंदगी खूब लंबी और स्‍वास्‍थ्‍य से भरी होती है. पर यहां भारत में इसका कुछ उल्‍टा होता है. हमारी उम्र जैसे-जैसे बढ़ रही है हमारे लिये स्‍वस्‍थ जिंदगी का महत्‍व भी उतना ही बढ़ रहा है. आज हर कोई लंबी उम्र तक जीना चाहता है लेकिन यह हर किसी की किसमत में नहीं होता.

 

क्‍या आप जानते हैं कि जापान में पुरुषों की औसत उम्र 80 साल की और महिलाओं की 86 साल तक की होती है. यही नहीं कई स्‍वस्‍थ जापानी तो 100 साल की उम्र भी बड़ी आसानी से पार कर जाते हैं. ये लोग इतनी लंबी और स्‍वस्‍थ जिंदगी कैसे जीते हैं, इस पर कई तरह का शोध भी किया जा चुका है. जापानी लोग अपनी जिंदगी में डाइट और लाइफस्‍टाइल का एक अच्‍छा कांबिनेशन बना कर रखते हैं.

इसके अलावा वे जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखते हैं. अगर आप भी जानना चाहते हैं कि जापानियों की लंबी जिंदगी का सीक्रेट क्‍या है तो जरुर शामिल करें इन आदतों को अपनी जिंदगी में

 

 

पूर्वी जड़ी बूटियों का सेवन

जापानी एलोपैथिक दवाओं पर निर्भर न रह कर पूर्वी जड़ी बूटियों का सेवन भी करते हैं.

लाल मांस की जगह मछली खाना

 

वहां के लोग लाल मांस की जगह मछली का सेवन ज्‍यादा करते हैं. इससे इनके शरीर में किसी भी प्रकार के न्‍यूट्रियन्‍ट्स की कमी नहीं हो पाती. मछली से उन्‍हें तेल, विटामिन और न्‍यूट्रियन्‍ट्स मिलते हैं. ये लोग लाल मांस में मौजूद खराब वसा को नहीं खाते क्‍योंकि यह कोलेस्‍ट्रॉल लेवल को बढ़ाता है. ऐसा करने से इन्‍हें हृदय की बीमारी नहीं होती.

साफ-सफाई रखना

 

जापान दुनिया के सबसे साफ सुथरे देशों में से एक माना जाता है. जापानी अपनी सुरक्षा संक्रामक रोगों से अतिरिक्‍त देखभाल कर के करते हैं. यहां तक कि जो पुस्‍तकें वे लोग पुस्‍तकालयों में वापस करने जाते हैं, उसे वापस लेते वक्‍त किताबों से कीटाणुओं को मारने के लिये यूवी तकनीक का प्रयोग किया जाता है.

ढेर सारी सब्‍जियों का सेवन

जापानियों की थाली में आधी थाली हरी सब्‍जियों से भरी हुई होती है. इसके अलावा वे तरह तरह की दाल भी खूब खाते हैं. ये मिक्‍स वेज सैलेड खाना काफी पसंद करते हैं जिससे एंटीऑक्‍सीडेंट और फाइटोकैमिकल्‍स की वजह से इन्‍हें हृदय रोग और कैसर नहीं होता.

डेली एक्‍सरसाइज करना

 

हर घर का यह रूल है कि उन्‍हें योगा, कराटे या मार्शलआर्ट की क्‍लास में जाना ही जाना है. इन तरह के व्‍यायामों से उनका दिमाग शांत रहता है और बॉडी फिट रहती है. बूढ़े हो जाने तक भी वे इन्‍हें नहीं छोड़ते.

भूंख से कम खाना

 

जापानियों का पेट जब 4/5 तक भर जाता है, तब वे खाना बंद कर देते हैं. वे कम खाना पसंद करते हैं और कभी पेट को पूरा नहीं भरते. स्‍टडी में देखा गया है कि ऐसा करने से उनकी उम्र धीरे-धीरे घटती है.

लंबे समय तक एक्‍टिव रहते हैं

जापान में रिटायर होने की कोई उम्र नहीं है. 60 साल की उम्र पार करने के बाद तक वे काम करना पसंद करते हैं. उन्‍हें घर पर खाली बैठना या सोना पसंद नहीं होता इसलिये वे कहीं न कहीं खुद को बिजी रखते हैं.

जिंदगी को जी भर कर जीते हैं

About admin

Check Also

लसूण खाणार्यांनी व्हा आता सावध,आजच वाचा ही पूर्ण बातमी.नाहीतर?

लसूण एक अशी खाद्य सामग्री आहे जी प्रत्येक स्वयंपाक घरात मिळून येते. लसूणचा उपयोग जेवणाचा …

सीताफळ खाल्ल्याने होतात हे आजार कायमचे बरे,लवकर वाचा..

सीताफळ चवीला गोड असतं. सीताफळ खाण्याचे फायदे माहिती असले, नसले तरी आपण ते खाण पसंद …

दररोज हिरवी मिरची खाल तर,नष्ट होतील हे 6 रोग.

तिखट खाणं आरोग्यासाठी चांगल होऊ शकत पण तेव्हा, जेव्हा आपण यासोबत हिरव्या मिरचीचे सेवन करता. …

आपणही बोकडाचे पाय खात असाल तर ही पोस्ट नक्की वाचा.

आपल्या सगळ्यांना माहिती आहे की, बोकडाच्या पायाचे मास आपल्या शरीरासाठी खूप फायदेशीर असत. पण तुम्हाला …

जर आपणही चिकनची चरबी खात असाल तर ही गोष्ट नक्की जाणून घ्या,नाहीतर हा गंभीर आजार होईल..

चिकन खाणाऱ्या बहुतांश लोकांना माहीत नसतं की, चिकनची चरबी खाल्ली पाहिजे की नाही ? ते …

जर लघवी केल्यानंतर थेंब गळत असतील तर,आपल्याला असू शकतो हा गंभीर आजार

लघवी करणे ही एक शारीरिक प्रक्रिया आहे, जी प्रत्येक मनुष्य आणि प्राणी करतो. पण लघवी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *